There was an error in this gadget

Wednesday, 1 June 2011

RAJBHAR

राजभर का इतिहास कविता इतेहास के पन्ने भरे पड़े है भर राजाओं के नाम से
झुका के सर नहीं 
मरे है मरे है वो शान से
कठिन है शासन काल बताना महाराज भारद्वाज का
महाराजा खीर्धर का नाम लो सम्मान से
झुका के सर नहीं मरे है मरे है वो शान सेइतेहास के पन्ने तो भरे पड़े है भर राजाओं के नाम से

नव्वी सताब्दी के राजा थे राजा नन्दुक
बाराबंकी में राज था जिसका सारा वो थे महाराज बारा
जिसने किया था सबको कैद वो थे महाराज जैस
महारानी किन्तमा को निकालना नहीं तुम ध्यान से
झुका के सर नहीं मरी थी मरी थी वो शान से
इतेहास के पन्ने तो भरे पड़े है भर राजाओं के नाम से

बहराइच में सासन काल था जिसका ३३ साल वो थे महाराजतिलोकचंद
मुसलमानों की जिन्दगी में लाया जिसने भूडौल वो थे सेनापतीइचौल
महामानौता के मूरत थे सेनापती मांड्ल्ररिक,महाराजपरीक्षित,मानिकचंद ,न्यान्देव ,मदन,मनदेव की आरती करोतुम थाल से
क्यों की 
झुका के सर नहीं मरे है मरे है वो शान सेइतेहास के पन्ने भरे पड़े है भर राजाओं के नाम से

लखनऊ में सासन चला राजा मोहनलाल का
दंग रह्जावोगे इतेहास सुनकर दल्की और मालकी का
राजा सारंगधर ,खनई,इसौल,छत्रशाल,काकोर और कितने नामगिनाऊ भर राजाओं के नाम से
झुका के सर नहीं मरे है मरे है वो शान से
इतेहास के पन्ने तो भरे पड़े है भर राजाओं के नाम से

भरो की महारानी आंबे देवी और सुनो डलदेव को
महाराजा सोझवल रावत,अल्देव और 
मलदेव को
२३ साल सासन चला अवध में महाराज मंगलसेन का
मंगलसेन के बाद अवध में राज था मनिहार का
और किस-किस के नाम गिनाऊ इतेहास तो पूरा भरा पड़ा है भरराजाओं के नाम से
झुका के सर नहीं 
मरे है मरे है वो शान से

आज दुनिया अज्ञात है भर राजाओं के नाम से
ये करामत हुवा है दुश्मनों के दिमाग से
मूलनिवासी भर थे जीन्हे भूल गया ये जग सारा
मिटा के हमारा नमो निशान बन गया ये ध्रु-
तारा

 गया है समय भरो के उत्पात मचाने का
बदला लेना है हुम्हे अपने दादापरादादावो का
बिखरी पड़ी आबादी भरो की जब एक हो जाएगी
दुश्मनों की सारी चलाखी मिट्टी में मिल जाएगी
पछौटा छोड़ भागेंगे ये हमारे इस राज्य से
कहत प्रितम सुन भाई राजभर
इतेहास के पन्ने तो भरे पड़े है भर राजाओं के नाम सेझुका के सर नहीं मरे है मरे है वो शान से
अमर राजभर जी  सुरहन 
9278447743 

4 comments: